Tuesday, June 25, 2024
Homeन्यूज़भाजपा को जानो’ पहल के तहत 13 देशों के दूतों के साथ...

भाजपा को जानो’ पहल के तहत 13 देशों के दूतों के साथ बातचीत करेंगे जेपी नड्डा, दिखाई जाएगी पार्टी से जुड़ी शार्ट डाक्यूमेंट्री।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर भाजपा को जानो पहल की शुरूआत की थी। इसके तहत जेपी नड्डा अब तक कई देशों के साथ बातचीत कर चुके हैं। इस दौरान उन्होंने पार्टी के बारे में भी विदेशी दूतों को जानकारी दी है।
 

नई दिल्ली, एएनआइ। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा शनिवार को ‘भाजपा को जानो’ पहल के तहत राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पार्टी मुख्यालय पर 13 देशों के दूतों से मुलाकात करेंगे। जेपी नड्डा आज शाम 4 बजे भाजपा कार्यालय में यूके, स्पेन, फिनलैंड, क्रोएशिया, सर्बिया, नेपाल, थाईलैंड, मारीशस और जमैक सहित 13 विदेशी दूतों के साथ बातचीत करेंगे।

क्या है ‘भाजपा को जानो’ कार्यक्रम

दरअसल, ‘भाजपा को जानो’ कार्यक्रम के तहत भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा विदेशी दूतों को पार्टी के बारे में जानकारी देंगे और 1951 से भारतीय जनता पार्टी की यात्रा पर तैयार की गई एक शार्ट डाक्यूमेंट्री भी उन्हें दिखाई जाएगी। विशेष रूप से ‘भाजपा को जानो’ पहल के तहत विदेशी दूतों के साथ नड्डा की यह तीसरी बातचीत होगी। उन्होंने अब तक कुल 34 विदेशी दूतों से बातचीत की है।

भाजपा के विदेश मामलों की शाखा के प्रमुख विजय चौथाईवाले ने दी जानकारी

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को लाओस, रूस, क्यूबा, ​​ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, उज्बेकिस्तान और तुर्की के दूतों से बातचीत की थी। इस महीने की शुरुआत में हुई पिछली बैठक तीन घंटे तक चली थी। भाजपा की विदेश मामलों की शाखा के प्रमुख विजय चौथाईवाले ने बातचीत के बाद एएनआई को बताया कि नरेन्द्र मोदी सरकार के तहत भारत की वैश्विक पहचान बढ़ी है और दूतों को पार्टी के इतिहास और दृष्टि से परिचित कराने की जरूरत है।

उन्होंने यह भी कहा था कि पार्टी और अधिक दूतों के साथ बातचीत करेगी। विजय चौथाईवाले ने कहा इस महीने हमारे तीन या चार संवाद सत्र होंगे। पार्टी-दर-पार्टी बातचीत को बढ़ाने की भी योजना है। अपनी बातचीत में नड्डा ने भाजपा के विस्तार, सदस्यता और संरचना में वृद्धि और भाजपा की भूमिका के बारे में विस्तार से बताया। नड्डा की टिप्पणी के बाद दूतों ने भारत के साथ अपने देशों के द्विपक्षीय संबंधों के महत्व के बारे में भी चर्चा की थी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments